Fajar Ki Namaz ke Baad Konsi Tasbih Padhni Chahiye

Assalamualaikum दोस्तों, आज के आर्ट में आप जानेंगे कि fajar ki namaz ke baad konsi tasbih padhni chahiye .

ऐसी कई tasbeeh है जिन्हें आप फजर की नमाज के बाद पढ़ सकते हैं और अपनी कई ख्वाहिशों को पूरा कर सकते हैं।

जैसे की घर में बरकत, काम में तरक्की और फ्यूचर गोल्स आदि। इसीलिए आप सभी के लिए मैं यह आर्टिकल लेकर आई हूं जिसमें आप जानेंगे कुछ ऐसी खास तस्बीह और वजीफा जिसे आप फजर की नमाज में पड़कर बहुत फायदे पा सकते हैं।

इसीलिए आर्टिकल को पूरा और अच्छे से पढ़ें क्योंकि इस आर्टिकल में आपको ऐसी कई बेहद बेहतरीन तस्बीह में बताउंगी ,

इन तस्बीह और वजीफा का फायदा यह है जब आप इनको पढ़ते हैं तो आप अपना काम भी पूरा करवाते हैं और साथ ही साथ सवाब भी कमा लेते हैं।

1- Fajar ki Namaz ke Baad ki Tasbeeh :

यह बहुत ही खास तस्बीह है जब भी आप इस तस्बीह को पढ़ेंगे तब आपको इसके बेहतरीन और उम्दा फायदे मिलेंगे।

Tasbih ko Padhne ka Tarika :

सबसे पहले आपको फजर की नमाज पढ़नी है। उसके बाद आपको अल्लाह का जिक्र शुरू करना है। जिसमें आप सबसे पहले तीन मर्तबा या सात मर्तबा दुरूद शरीफ पड़ेंगे।

फिर उसके बाद आपको 33 मर्तबा सुभानल्लाह 33 मर्तबा अल्हम्दुलिल्लाह और 34 मर्तबा अल्लाह हुअकबार पढ़ना है ।

इसको पढ़ कर फिर से दुरूद शरीफ पढ़े और अल्लाह से दुआ करें। इस तस्बीह को आप रात को सोने से पहले भी पढ़ सकते हैं।

इस तस्बीह का दूसरा नाम फातिमा की तस्बीह भी है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हजरत फातिमा इस तस्बीह को पढ़ा करती थी और दुआ किया करती थी।

fajar ki namaz ke baad ki tasbeeh in hindi

Fajar ki Namaz ke Baad ki Tasbeeh ke Fayde :

इस तसबी के बहुत ही बेहतरीन और उम्दा किस्म के फायदे हैं। जो हैं :

  • जब भी आप इस तस्बीह को पढ़ते हैं तब अल्लाह ताला आपके नाम बहुत अजर और सवाब लिखना है।
  • इस तस्बीह को पढ़ने वाले के घर में हमेशा खैरो बरकत बनी रहती है।
  • इस तस्बीह को जो कोई भी पड़ता है और जिस भी जायज दुआ के लिए पड़ता है उसकी वो दुआ अल्लाह कुबूल फरमाता है ।
  • इस तस्बीह को पढ़ने वाले के लिए अल्लाह ताला ऐसी जगह से दौलत नाजिल करेगा जहां से किसी ने गुमान भी नही किया होगा ।
  • रिज्क की बरकत के लिए यह तस्बीह बेहतरीन तस्बीह है ।

2-Fajar ki Namaz ke Baad Rizq ke Liye Tasbeeh :

फजर की नमाज के बाद की यह बहुत ही अल्लाह और उम्दा तस्बीह है जिसमें कि आप अपने रिस्क के लिए बरकत हासिल कर सकते हैं।

Fajar ki Namaz ke Baad Rizq ke Liye Tasbeeh Padhne ka Tarika :

इस तस्बीह को पढ़ने का तरीका बहुत ही सिंपल और आसान है।
सबसे पहले आपको फजर की नमाज पढ़ने के बाद तीन या सात मर्तबा दरूदे पाक पढ़ना है।

उसके बाद आपको एक तस्बीह यानी कि सो मर्तबा यह कलमत पढ़ने हैं;
Subhanallahi wabihamdihi subhanallahil Azeem।

इस तस्बीह को पढ़कर आपको अपने रिज्क की बरकत के लिए दुआ करनी है।

Fajar ki Namaz ke Baad Rizq ke Liye Tasbeeh ke Fayde :

इस तस्बीह को पढ़ने के अनगिनत फायदे हैं, जिसमें सबसे पहले और सबसे बड़ा फायदा

  • रिज्क में बरकत
  • हुजूर पाक सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया के जो शख्स इस तस्बीह को रोजाना फजर की नमाज के बाद पड़ेगा अल्लाह ताला उसके रिज्क में बेशुमार बरकत आता फरमाएंगे ।
  • हुजूर ने फरमाया कि यह तस्बीह सारी कायनात के रिज्क का जरिया है।

FAQ :

Fajar ki Namaz ke Baad Kya Kare?

फजर की नमाज के बाद जितना हो सके उतना अल्लाह का जिक्र करें।

Fajar ki Namaz Kab Qaza Hoti Hai?

फजर की नमाज सूरज उगने पर कज़ा होती है ।

Fajar Ki Namaz ke Baad Konsi Tasbih Padhni Chahiye ?

Subhanallahi wabihamdihi subhanallahil Azeem

Fajar ki Namaz ki Rakat Kitni Hoti Hai ?

फजर की नमाज में चार रकात होती है ।

Conclusion :

दोस्तों, इस आर्टिकल में आप सभी के लिए fajar ki namaz ke baad konsi tasbih padhni chahiye इसकी दो तस्बीह बताई गई हैं ।

अगर आप Fajar Ki Namaz ke Baad Konsa Surah Padhna Chahiye जानना चाहते है तो मेरे इस आर्टिकल को पढ़ सकते है।

उम्मीद है की आप को दोनो ही तस्बीह का तरीका समझ आ गया होगा । अगर आपको ये आर्टिकल Fajar Ki Namaz ke Baad Konsi Tasbih Padhni Chahiye अच्छा लगा तो कमेंट करके ज़रूर बताये।

अगर आप online tasbeeh पढ़ना चाहते है तो मेरी इस डिजिटल तस्बीह को इस्तेमाल कर सकते है।

ऐसे ही और आर्टिकल्स के लिए बने रहें मेरी वेबसाइट पर ।

फि अमान अल्लाह !

दीन की बाते शेयर करना सदक़ा ए जारिया है , शेयर ज़रूऱ करे।

Assalamualaikum , आप सभी का स्वागत है मेरी वेबसाइट पर जिसका नाम है www.Iftarkidua.com । यहां पर आपको इस्लाम से जुड़ी ज्यादातर सभी जानकारियां दी जायेंगी । में आपको अपनी इस इस्लामिक साइट पर दीन से जुड़ी और हमारे इस्लाम से जुड़ी जानकारियां और इसके साथ साथ सभी दुआओं का विर्द करना क्यों जरूरी है और जिसको दुआएं याद नही उसके लिए भी हिंदी ट्रांसलेशन और के साथ दी जायेंगी

1 thought on “Fajar Ki Namaz ke Baad Konsi Tasbih Padhni Chahiye”

Leave a Comment