सूरह मुजम्मिल हिंदी में पढ़े | Surah Muzammil in Hindi

Assalamualaikum दोस्तों, आज के आर्टिकल में मैं आप सभी के साथ शेयर करूंगी surah Muzammil in hindi

अगर आप भी यही ढूंढ रहे हैं surah Muzammil in hindi तो आप एकदम सही जगह पर है ।

सूरह मुजम्मिल की पढ़ने की फजीलत है और उसकी कुछ खास बेनिफिट्स भी हम इस आर्टिकल में जानेंगे ।

इसलिए आर्टिकल में लास्ट तक बने रहिए और उनका ध्यान से और अच्छे से पढें ।

surah Muzammil in hindi


सूरह मुज़्ज़म्मिल हिंदी में :

  • बिस्मिल्लाहिरहमानिररहीम
  • या अय्युहल-मुज्जम्मिलु
  • क़ुमिल लै-ल इल्ला क़लीला
  • निस्फहू अविन्कुस मिन्हु क़लीला
  • औ जिद अलैहि व रत्तिलिल कुरआ न तरतीला
  • इन्ना सनुल्की अलै -क कौलन सक़ीला
  • इन्न नाशिअतल लैलि हिया अशद्दु वत अव वअक्वमु कीला
  • इन-न-ल-क फिन्नहारि सब्हन तविला
  • वज्कुरिस म-रब्बी क-व-टी बत्ल इलैहि तब्तीला
  • रब्बुल मश्रिकी वल मगरिबि ला इला ह इल्ला हु व फतखिज्हू वकीला
  • वसबिर अला मा यकूलू न वह्जुर हुम हजरन जमीला
  • व ज़रनी वल मुकज्ज़िबी न उलिन नअ,मति व मह हिल्हुम क़लीला
  • इन – न लदैना अन्कालव व जहीमा
  • व तआमन ज़ा गुस्सतिव व अज़ाबन अलीमा
  • यौ म-तरजुफुल अर्जु वल जिबालु व कानतिल जिबालु कसीबम महीला
  • इन्ना अरसलना इलैकुम रसूला शाहिदन अलैकुम कमा अरसलना इला फ़िरऔ न- रसूला
  • फ़ असा फ़िरऔनुर रसू ल फ़अख्ज्नाहू अख्ज़व वबीला
  • फ़कै फ़ तत तकूना इन क फरतुम यौमय यजअलुल विल्दा न शीबा
  • अस्स्मा उ मुन्फतिरुम बिही का न वअदुहू मफ़ऊला
  • इन न हाज़िही तज्किरह फ़ मन शाअत तखज़ा इला रब्बिही सबीला
  • इन न रब्ब क यअलमु अन्नका तकूमु अदना मिन सुलु सयिल्लैलि व निस् फहु व सुलु सहू व ताइ फतुम मिनल लज़ीना मअक वल्लाहु युक़द्दिरुल लैला वन नहार अलिमा अल लन तुह्सूहू फताबा अलैकुम फकरऊ मा तयस सरा मिनल कुरआन अलिमा अन सयकूनु मिन्कुम मरजा व आखरूना यजरिबूना फ़िल अरज़ि यब्तगूना मिन फजलिल लाहि व आख़रूना युकातिलूना फ़ी सबीलिल लाहि फकरऊ मा तयस सरा मिनहु व अक़ीमुस सलाता व आतुज़ ज़काता व अकरिजुल लाहा करजन हसना वमा तुक़ददिमू लि अन्फुसिकुम मिन खैरिन तजिदूहू इन्दल लाहि हुवा खैरव व अ’अज़मा अजरा वस ताग्फिरुल लाह इन्नल लाहा गफूरुर रहीम

सूरह मुजम्मिल

Surah muzammil ke fayde


इस सूरत को पढ़ने के कई फायदे हैं जैसे की :

  • जो भी शख्स यह दुआ है रोजाना हमेशा के लिए पड़ेगा ,हमेशा के लिए अपना मामुल बना लेगा उसको अल्लाह ताला अपनी पनाह में रखेगा ।
  • इस दुआ को रोजाना पढ़ने वाला शख्स किसी भी चीज से नुकसान नहीं पाएगा।
  • जो भी शख्स सूरह मुजम्मिल सुबह शाम पड़ता है अल्लाह ताला फरिश्तों से फरमाता है कि “ मैने अपना दोस्त इस शख्स को बना लिया है और फरिश्तों याद रखो मैं इस शख्स को अखिरत के दिन बक्श दिया।”
  • जो भी शक्श अपनी रोटी या फिर खाने पर सूरह मुजम्मिल को पढ़कर दम करेगा अल्लाह ताला इसकी रोजी-रोटी में बेहद बरकत अदा फरमाएगा।
  • यह सूरत इज्जत और मर्तबा पाने के लिए भी बहुत ही बेहतरीन सूरत है। जो भी शख्स सूरह मुजम्मिल को लिखकर अपने पास यानी कि उसका नक्श बनाकर अपने पास रखता है अल्लाह ताला उसको बेहद इज्जत फरमाता है और तो और उसके आसपास कोई मुसीबत भी नहीं आ सकती।
  • यह सूरत बहुत ही ताकतवर सूरत है। इस सुर को पढ़ने वाले अगर इसको समझ कर और ध्यान से पूरे यकीन के साथ पढ़े तो पहाड़ भी हिला सकते हैं।

Surah Muzammil Hindi Tarjuma Ke Sath

  • अल्लाह के नाम से जो रहमान व करीम है
  • ऐ मेरे चादर लपेटे हुए रसूल
  • रात को नमाज पढने के लिए खड़े रहो (पूरी रात नही)
  • थोड़ी रात या आधी रात उससे थोड़ा कम या थोडा ज्यादा
  • और कुरान को वकायदा रुक रुक कर पढ़ा करो
  • हम अनकरीब तुम पर भारी हुक्म नाजिल करेंगे इसमें शक नही नही कि रात को उठाना
  • खुद पामाल करना और बहुत ठिकाने से जिक्र का वक्त है |
  • दिन को तो तुम्हारे बहुत बड़े बड़े अश्गाल है |
  • आप अपने परवर दिगार के नाम का जिक्र करो और सबसे अलग होकर उसी का रहो
  • वही मगरिब और मशरिक का मालिक है, उसके सिवा कोई और बड़ा नही है, तुम उसी को अपना कारसाज बनाओ
  • और जो कुछ लोग कहा करते है, उन पर सब्र को और उनसे अलग अलग रहो
  • और मुझे थोड़ी सब्र दो ताकि मै उन झुठलाने वाले लोगो को समझ सकू जो दौलतमंद है |
  • बेश हमारे पास बेड़िया है, और आग भी |
  • और गले में फसने वाला खाना और दुःख देने वाला अजाब भी |
  • जिस दिन जमीन और पहाड़ लरजने लगेंगे और पहाड़ के टाइल भुर भुर हो जायेंगे
  • ये मेरे मका वाले हमने तुम्हारे पास एक रसूल मोहम्मद को भेजा जो तुम्हारे मामले में गवाही दे जिस तरह फिरऔन के पास एक रसूल मुसा को भेजा था |
  • तो फिरऔन ने उस रसूल कि न फ़रमानी कि तो हमने भी उसको बहुत सख्त पकड़ा |
  • तो अगर तुम भी न मानोगे तो उस दिन से बचोगे, जो बच्चो को बुढा बना देगा |
  • जिस दिन असमान फटेगा उसका वायदा पूरा होकर रहेगा |
  • बेशक ये नसीहत है, तो जो शख्स चाहे अपने परवरदिगार कि राह ऐतवार करे |
  • ऐ रसूल तुम्हारा परवरदिगार चाहता है,कि तुम और तुम्हारे लोग तो तिहाई रात के करीब नमाज में खड़े रहते हो और खुदा ही दिन और रात का अच्छी तरह अंदाजा कर सकता है, वो जानता है, तुम लोग उस पर पूरी तरह से हावी नही हो सकते तो उसने तुम पर मेहरवानी कि, तो जितना आसानी से हो सके तुम कुरान पढ़ लिया करो, और वो जानता है, कि अनकरीब तुम में से बाज बीमार हो जायेंगे, और बाज खुदा के फजल कि तलाश में रुए जमीन पर सफ़र ऐख्तेयर करेंगे और कुछ लोग तो खुदा के राह में जेहाद करेंगे, तो जितना जो सके आसानि से नमाज पढ़ लिया करो और नमाज का पाबन्दी करो, और अगर खुदा के राह में दुआ मांगोगे तो खुद बेशक बड़ा मेहरबान है |

Surah Al muzammil

सुरा मुजम्मिल बहुत ही ताकतवर सुरत है । यह कुरान शरीफ की 73वी सुरा है ।

इसमें 40 आए आते हैं यानी कि यह 40 आए तो उससे मिलकर एक सूरत बनी है।

यह इतनी ज्यादा ताकतवर आयत है कि अगर कोई शख्स इसको इतनी यकीन से पढ़े तो वह पत्थर को भी दिला सकता है।

लेकिन आजकल ऐसा ईमान और यकीन कोई कोई रखता है।

FAQ

What is Surah Muzammil read for?

Surah is read for wealth , job , health and many more necessary things in life.

What is the story behind Surah Muzammil?

God prepared Muhammad (pbuh) for an important revelation .

What is the most powerful surah?

Ayatul kursi is the most powerful surah .

Conclusion

दोस्तों मैं आपको इस आर्टिकल में surah Muzammil in hindi बताई है जिससे कि आप इसको अच्छे से याद करके पढ़ सकते हैं।

अगर याद नहीं कर सकते तो आप इसको हिंदी में आराम से देखकर पढ़ सकते हैं इस आर्टिकल के द्वारा।

इसके कई फायदे भी इसी आर्टिकल surah Muzammil in hindi में बताए हैं । अगर आर्टिकल पसंद आया हो तो कमेंट में बताएं । अगर आप इस आर्टिकल surah Muzammil in hindi से रेलेटेड कुछ पूछना चाहते है तो मुझे कमेंट कर सकते है।

और ऐसे ही आर्टिकल्स के लिए फॉलो करते रहें मेरी वेबसाइट को ।

फि अमान अल्लाह !

दीन की बाते शेयर करना सदक़ा ए जारिया है , शेयर ज़रूऱ करे।

Assalamualaikum , आप सभी का स्वागत है मेरी वेबसाइट पर जिसका नाम है www.Iftarkidua.com । यहां पर आपको इस्लाम से जुड़ी ज्यादातर सभी जानकारियां दी जायेंगी । में आपको अपनी इस इस्लामिक साइट पर दीन से जुड़ी और हमारे इस्लाम से जुड़ी जानकारियां और इसके साथ साथ सभी दुआओं का विर्द करना क्यों जरूरी है और जिसको दुआएं याद नही उसके लिए भी हिंदी ट्रांसलेशन और के साथ दी जायेंगी

Leave a Comment